सहरसा। बुधवार को मुख्यालय हाजीपुर में महाप्रबंधक श्री ललित चंद्र त्रिवेदी की अध्यक्षता में एक बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में परिचालन लागत में कमी लाने के साथ आय बढ़ाने तथा यात्रियों की सुविधा हेतु ट्रेनों में बर्थ की उपलब्धता में वृद्धि सहित कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार-विमर्श किया गया। इस बैठक में मुख्यालय के सभी विभागाध्यक्ष, पांच मंडलों के मंडल रेल प्रबंधक सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।
बैठक में आय में वृद्धि के लिए माल लदान बढ़ाने, प्रतिक्षा सूची में टिकट लेकर चलने वाले यात्रियों की सुविधा हेतु आरक्षित कोचों में सीटों की संख्या में वृद्धि करने सहित अन्य विषयों पर बल दिया गया। हाल के वर्षों में बड़े पैमाने पर हुए अवसंरचनात्मक विकास जैसे- नई लाइनों के निर्माण, दोहरीकरण, विद्युतीकरण, अत्याधुनिक सिग्नल प्रणाली की स्थापना आदि का लाभ उठाते हुए अतिरिक्त मालगाड़ी व पैसेंजर ट्रेनों के परिचालन करने पर बल दिया गया। नबीनगर में स्थापित रेल मंत्रालय और एनटीपीसी के संयुक्त उपक्रम भारतीय रेल बिजली कंपनी लिमिटेड द्वारा ओपन एक्सेस के तहत घरेलू संसाधनों के माध्यम से कम कीमत पर विद्युत आपूर्ति होने के बाद अधिक से अधिक ट्रेनों का परिचालन इलेक्ट्रिक इंजन से किया जाए। यह प्रदूषण को कम करने में भी सहायक सिद्ध होगा।
विदित हो कि पूर्व मध्य रेल द्वारा अब तक 34 ट्रेनों को एलएचबी कोच से चलाया जा रहा है जिससे संरक्षा में तो वृद्धि हो ही रही है, सभी श्रेणियों में यात्रियों के लिए अतिरिक्त बर्थ भी उपलब्ध कराया जा रहा है जिससे रेलवे की आय में भी वृद्धि हुई है। इसी तरह आय में पूर्व मध्य रेल का प्रदर्शन भी बेहतर है। चालू वित्त वर्ष में अब तक (अप्रैल से नवंबर 2019 तक) पूर्व मध्य रेल को कुल ₹12924 करोड़ की आय प्राप्त हुई है जो पिछले वित्त वर्ष में इसी अवधि की तुलना में हुई आय से 11.40% अधिक है। जबकि नवंबर 2019 में लगभग ₹1657 करोड़  की आय प्राप्त हुई है जो नवंबर 2018 की तुलना में 10% ज्यादा है। माल लदान से प्राप्त होने वाली आय में वृद्धि के उद्देश्य से वैगनों की अधिक से अधिक उपलब्धता सुनिश्चित कराने पर बल दिया गया। माल लदान से होने वाली आय में वृद्धि के साथ ही विज्ञापन एवं अन्य विविध मदों में आय बढ़ाने पर भी चर्चा हुई। बिना टिकट अथवा उचित प्राधिकार के यात्रा करने वालों की धरपकड़ हेतु विशेष अभियान चलाया जाएगा ताकि ऐसे यात्रियों से होने वाले रेल राजस्व की क्षति को रोका जा सके।
बैठक में लागत में कमी लाने एवं आय में वृद्धि करने के लिए कई महत्वपूर्ण सुझाव भी प्राप्त हुए। इन सुझावों में रेल उपयोगकर्ताओं के फायदे के लिए प्रीमियम के साथ लोकप्रिय गुड्स शेड का आवंटन, व्यस्त रेल मार्ग पर परिवहन सुविधा प्रदान करना एवं बिना बारी के रेक की सुविधा उपलब्ध कराने जैसे कई अन्य सुझाव प्राप्त हुए।